maa aur bhen ki chudai story चुदाई हो तो ऐसी 1

views

Latest sotry by : – गुमनाम “चुदाई हो तो ऐसी 1” से आगे की कहानी . . . . विनोद एक स्वर्गिक आनन्द में डूबा हुआ था क्योंकि उसकी छोटी बहन की सकरी कोमल मखमल जैसी मुलायम बुर ने उसके लंड को ऐसे जकड़ा हुआ था जैसे कि किसीने अपने हाथों में उसे भींच कर पकड़ा हो. विनिता के मुंह से अपना हाथ हटाकर उसके गुलाबी होंठों को चूमता हुआ विनोद धीरे धीरे उसे बेहोशी में ही चोदने लगा. बुर में चलते उस सूजे हुए लंड के दर्द से विनिता होश में आई. उसने दर्द से कराहते हुए अपनी आन्खे खोलीं और सिसक सिसक कर रोने लगी. “विनोद भैया, मैं मर जाऊंगी, उई मां, बहुत दर्द हो रहा है

, मेरी चूत फटी जा रही है

, मुझपर दया करो, आपके पैर पड़ती हूं.”विनोद ने झुक कर देखा तो उसका मोटा ताजा लंड विनिता की फैली हुई चूत से पिस्टन की तरह अन्दर बाहर हो रहा था. बुर का लाल छेद बुरी तरह खिंचा हुआ था पर खून बिल्कुल नहीं निकला था. विनोद ने चैन की साम्स ली कि बच्ची को कुछ नहीं हुआ है

, सिर्फ़ दर्द से बिलबिला रही है

. वह मस्त होकर अपनी बहन को और जोर से चोदने लगा. साथ ही उसने विनिता के गालों पर बहते आंसू अपने होंठों से समेटन शुरू कर दिया. विनिता के चीखने की परवाह न करके वह जोर जोर से उस कोरी मस्त बुर में लंड पेलने लगा. “हाय क्या मस्त चिकनी और मखमल जैसी चूत है

तेरी विनिता, सालों पहले चोद डालना था तुझे. चल अब भी कुछ नहीं बिगड़ा है

, रोज तुझे देख कैसे तड़पा तड़पा कर चोदता हूं.”टाइट बुर में लंड चलने से ‘फच फच फच‘ ऐसी मस्त आवाज होने लगी. जब विनिता और जोर से रोने लगी तो विनोद ने विनिता के कोमल गुलाबी होंठ अपने मुंह मे दबा लिये और उन्हें चूसते हुए धक्के मारने लगा. जब आनन्द सहन न होने से वह झड़ने के करीब आ गया तो विनिता को लगा कि शायद वह झड़ने वाला है

इसलिये बेचारी बड़ी आशा से अपनी बुर को फ़ाड़ते लंड के सिकुड़ने का इन्तजार करने लगी. पर विनोद अभी और मजा लेना चाहता था; पूरी इच्छाशक्ति लगा कर वह रुक गया जब तक उसका उछलता लंड थोड़ा शान्त न हो गया. सम्हलने के बाद उसने विनिता से कहा “मेरी प्यारी बहन, इतनी जल्दी थोड़े ही छोड़ूंगा तुझे. मेहनत से लंड घुसाया है

तेरी कुंवारी चूत में तो मां-कसम, कम से कम घन्टे भर तो जरूर चोदूंगा.” और फ़िर चोदने के काम में लग गया. दस मिनिट बाद विनिता की चुदती बुर का दर्द भी थोड़ा कम हो गया था. वह भी आखिर एक मस्त यौन-प्यासी लड़की थी और अब चुदते चुदते उसे दर्द के साथ साथ थोड़ा मजा भी आने लगा था. विनोद जैसे खूबसूरत जवान से चुदने में उसे मन ही मन एक अजीब खुशी हो रही थी, और ऊपर से अपने बड़े भाई से चुदना उसे ज्यादा उत्तेजित कर रहा था. जब उसने चित्र में देखी हुई चुदती औरत को याद किया तो एक सनसनाहट उसके शरीर में दौड़ गई. चूत में से पानी बहने लगा और मस्त हुई चूत चिकने चिपचिपे रस से गीली हो गई. इससे लंड और आसानी से अन्दर बाहर होने लगा और चोदने की आवाज भी तेज होकर ‘पकाक पकाक पकाक‘ जैसी निकलने लगी. रोना बन्द कर के विनिता ने अपनी बांहे विनोद के गले में डाल दीं और अपनी छरहरी नाजुक टांगें खोलकर विनोद के शरीर को उनमें जकड़ लिया. वह विनोद को बेतहाशा चूंमने लगी और खुद भी अपने चूतड़ उछाल उछाल के चुदवाने लगी. “चोदिये मुझे भैया, जोर जोर से चोदिये. हाःय, बहुत मजा आ रहा है

. मैने आपको रो रो कर बहुत तकलीफ़ दी, अब चोद चोद कर मेरी बुर फाड़ दीजिये, मैं इसी लायक हूं।” विनोद हंस पड़ा. “है

आखिर मेरी ही बहन, मेरे जैसी चोदू. पर यह तो बता विनिता, तेरी चूत में से खून नहीं निकला, लगता है

बहुत मुठ्ठ मारती है

, सच बोल, क्या डालती है

? मोमबत्ती या ककड़ी?” विनिता ने शरमाते हुए बताया कि गाजर से मुठ्ठ मारनी की उसे आदत है

. इसलिये शायद बुर की झिल्ली कब की फ़ट चुकी थी. भाई बहन अब हचक हचक कर एक दूसरे को चोदने लगे. विनोद तो अपनी नन्ही नाजुक किशोरी बहन पर ऐसा चढ़ गया जैसे कि किसी चुदैल रन्डी पर चढ़ कर चोदा जाता है

. विनिता को मजा तो आ रहा था पर विनोद के लंड के बार अंदर बाहर होने से उसकी चूत में भयानक दर्द भी हो रहा था. अपने आनन्द के लिये वह किसी तरह दर्द सहन करती रही और मजा लेती हुई चुदती भी रही पर विनोद के हर वार से उसकी सिसकी निकल आती. काफ़ी देर यह सम्भोग चला. विनोद पूरे ताव में था और मजे ले लेकर लंड को झड़ने से बचाता हुआ उस नन्ही जवानी को भोग रहा था. विनिता कई बार झड़ी और आखिर लस्त हो कर निढाल पलंग पर पड़ गई. चुदासी उतरने पर अब वह फ़िर रोने लगी. जल्द ही दर्द से सिसक सिसक कर उसका बुरा हाल हो गया क्योंकि विनोद का मोटा लंड अभी भी बुरी तरह से उसकी बुर को चौड़ा कर रहा था. विनोद तो अब पूरे जोश से विनिता पर चढ़ कर उसे भोग रहा था जैसे वह इन्सान नही, कोई खिलौना हो. उसके कोमल गुप्तान्ग को इतनी जोर की चुदाई सहन नहीं हुई और सात आठ जोरदार झटकों के बाद वह एक हल्की चीख के साथ विनिता फिर बेहोश हो गई. विनोद उस पर चढ़ा रहा और उसे हचक हचक कर चोदता रहा. चुदाई और लम्बी खींचने की उसने भरसक कोशिश की पर आखिर उससे रहा नहीं गया और वह जोर से हुमकता हुआ झड़ गया. गरम गरम गाढ़े वीर्य का फ़ुहारा जब विनिता की बुर में छूटा तो वह होश में आई और अपने भैया को झड़ता देख कर उसने रोना बन्द करके राहत की एक सांस ली. उसे लगा कि अब विनोद उसे छोड़ देगा पर विनोद उसे बाहों में लेकर पड़ा रहा. विनिता रोनी आवाज में उससे बोली. “भैया, अब तो छोड़ दीजिये, मेरा पूरा शरीर दुख रहा है

आप से चुद कर.” विनोद हंसकर बेदर्दी से उसे डराता हुआ बोला. “अभी क्या हुआ है

विनिता रानी. अभी तो तेरी गांड भी मारनी है

.” विनिता के होश हवास यह सुनकर उड़ गये और घबरा कर वह फिर रोने लगी. विनोद हंसने लगा और उसे चूमते हुए बोला. “रो मत, चल तेरी गांड अभी नहीं मारता पर एक बार और चोदूंगा जरूर और फिर आफिस जाऊंगा.” उसने अब प्यार से अपनी बहन के चेहरे , गाल और आंखो को चूमना शुरू कर दिया. उसने विनिता से उसकी जीभ बाहर निकालने को कहा और उसे मुंह में लेकर विनिता के मुख रस का पान करता हुआ कैन्डी की तरह उस कोमल लाल लाल जीभ को चूसने लगा. थोड़ी ही देर में उसका लंड फ़िर खड़ा हो गया और उसने विनिता की दूसरी बार चुदाई शुरू कर दी. चिपचिपे वीर्य से विनिता की बुर अब एकदम चिकनी हो गई थी इसलिये अब उसे ज्यादा तकलीफ़ नहीं हुई. ‘पुचुक पुचुक पुचुक‘ की आवाज के साथ यह चुदाई करीब आधा घन्टा चली. विनिता बहुत देर तक चुपचाप यह चुदाई सहन करती रही पर आखिर चुद चुद कर बिल्कुल लस्त होकर वह दर्द से सिसकने लगी. आखिर विनोद ने जोर जोर से धक्के लगाने शुरू किये और पांच मिनट में झड़ गया. झड़ने के बाद कुछ देर तो विनोद मजा लेता हुआ अपनी कमसिन बहन के निस्तेज शरीर पर पड़ा रहा. फिर उठ कर उसने अपना लंड बाहर निकला. वह ‘पुक्क‘ की आवाज से बाहर निकला. लंड पर वीर्य और बुर के रस का मिला जुला मिश्रण लगा था. विनिता बेहोश पड़ी थी. विनोद उसे पलंग पर छोड़ कर बाहर आया और दरवाजा लगा लिया. सुषमा वापस आ गई थी और बाहर बड़ी अधीरता से उसका इन्तजार कर रही थी. पति की तृप्त आंखे देखकर वह समझ गई कि चुदाई मस्त हुई है

. “चोद आये मेरी गुड़िया जैसी प्यारी ननद को ?” विनोद तॄप्त होकर उसे चूमता हुआ बोला. “हां मेरी जान, चोद चोद कर बेहोश कर दिया साली को, बहुत रो रही थी, दर्द का नाटक खूब किया पर मैने नहीं सुना. क्या मजा आया उस नन्ही चूत को चोदकर.” सुषमा वासना के जोश में घुटने के बल विनोद के सामने बैठ गई और उसका रस भरा लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. लंड पर विनिता की बुर का पानी और विनोद के वीर्य का मिलाजुला मिश्रण लगा था. पूरा साफ़ करके ही वह उठी. विनोद कपड़े पहन कर ऑफ़िस जाने को तैयार हुआ. उसने अपनी कामुक बीवी से पुछा कि अब वह क्या करेगी? सुषमा बोली “इस बच्ची की रसीली बुर पहले चूसूंगी जिसमें तुंहारा यह मस्त रस भरा हुआ है

. फिर उससे अपनी चूत चुसवाऊंगी. हम लड़कियों के पास मजा करने के लिये बहुत से प्यारे प्यारे अंग है

. आज ही सब सिखा दूंगी उसे” विनोद ने पूछा. “आज रात का क्या प्रोग्राम है

रानी?” सुषमा उसे कसकर चूमते हुए बोली. ” जल्दी आना, आज एक ही प्रोग्राम है

. तुंहारी बहन की रात भर गांड मारने का. खूब सता सता कर, रुला रुला कर गांड मारेम्गे साली की, जितना वह रोयेगी उतना मजा आयेगा. मै कब से इस घड़ी की प्रतीक्षा कर रही हूं” विनोद मुस्कराके बोला “बड़ी दुष्ट हो. लड़की को तड़पा तड़पा कर भोगना चाहती हो.” सुषमा बोली. “तो क्या हुआ, शिकार करने का मजा अलग ही है

. बाद में उतना ही प्यार करूम्गी अपनी लाड़ली ननद को. ऐसा यौन सुख दूम्गी कि वह मेरी दासी हो जायेगी. हफ़्ते भर में चुद चुद कर फ़ुकला हो जायेगी तुंहारी बहन, फ़िर दर्द भी नहीं होगा और खुद ही चुदैल हमसे चोदने की माम्ग करेगी. पर आज तो उसकी कुम्वारी गांड मारने का मजा ले लेम.” विनोद हम्स कर चला गया और सुषमा ने बड़ी बेताबी से कमरे में घुस कर दरवाजा लगा लिया. विनिता होश में आ गई थी और पलंग पर लेट कर दर्द से सिसक रही थी. चुदासी की प्यास खत्म होने पर अब उसकी चुदी और भोगी हुई बुर में खूब दर्द हो रहा था. सुषमा उसके पास बैठ कर उसके नंगे बदन को प्यार से सहलाने लगी. “क्या हुआ मेरी विनिता रानी को? नंगी क्यों पड़ी है

और यह तेरी टांगों के बीच से चिपचिपा क्या बह रहा है

?” बेचारी विनिता शर्म से रो दी. “भाभी, भैया ने आज मुझे चोद डाला.” सुषमा आश्चर्य का नाटक करते हुए बोली. “चोद डाला, अपनी ही नन्हीं बहन को? कैसे?” विनिता सिसकती हुई बोली. “मै गंदी किताब देखती हुई पकड़ी गई तो मुझे सजा देने के लिये भैया ने मेरे कपड़े जबर्दस्ती निकाल दिये, मेरी चूत चूसी और फ़िर खूब चोदा. मेरी बुर फाड़ कर रख दी. गांड भी मारना चाहते थे पर मैने जब खूब मिन्नत की तो छोड़ दिया” सुषमा ने पलंग पर चढ कर उसे पहले प्यार से चूमा और बोली. “ऐसा? देखूं जरा” विनिता ने अपनी नाजुक टांगें फैला दी. सुषमा झुक कर चूत को पास से देखने लगी. कच्ची कमसिन की तरह चुदी हुई लाल लाल कुन्वारी बुर देख कर उसके मुह में पानी भर आया और उसकी खुद की चूत मचल कर गीली होने लगी. वह बोली “विनिता, डर मत, चूत फ़टी नहीं है

, बस थोड़ी खुल गई है

. दर्द हो रहा होगा, अगन भी हो रही होगी. फ़ूंक मार कर अभी ठण्डी कर देती हूं तेरी चूत.” बिल्कुल पास में मुंह ले जा कर वह फ़ूंकने लगी. विनिता को थोड़ी राहत मिली तो उसका रोना बन्द हो गया. फ़ूंकते फ़ूंकते सुषमा ने झुक कर उस प्यारी चूत को चूम लिया. फ़िर जीभ से उसे दो तीन बार चाटा, खासकर लाल लाल अनार जैसे दाने पर जीभ फ़ेरी. विनिता चहक उठी. “भाभी, क्या कर रही हो?” “रहा नहीं गया रानी, इतनी प्यारी जवान बुर देखकर, ऐसे माल को कौन नहीं चूमना और चूसना चाहेगा? क्यों, तुझे अच्छा नहीं लगा?” सुषमा ने उस की चिकनी छरहरी रानों को सहलाते हुए कहा. “बहुत अच्छा लगा भाभी, और करो ना.” विनिता ने मचल कर कहा. सुषमा चूत चूसने के लिये झुकती हुई बोली. “असल में तुंम्हारे भैया का कोई कुसूर नहीं है

. तुम हो ही इतनी प्यारी कि औरत होकर मुझे भी तुम पर चढ़ जाने का मन होता है

तो तेरे भैया तो आखिर मस्त जवान है

.” अब तक विनिता काफ़ी गरम हो चुकी थी और अपने चूतड़ उचका उचका कर अपनी बुर सुषमा के मुंह पर रगड़ने की कोशिश कर रही थी. विनिता की अधीरता देखकर सुषमा बिना किसी हिचकिचाहट से उस कोमल बुर पर टूट पड़ी और उसे बेतहाशा चाटने लगी. चाटते चाटते वह उस मादक स्वाद से इतनी उत्तेजित हो गई कि अपने दोनो हाथों से विनिता की चुदी चूत के सूजे पपोटे फ़ैला कर उस गुलाबी छेद में जीभ अन्दर डालकर आगे पीछे करने लगी. अपनी भाभी की लम्बी गीली मुलायम जीभ से चुदना विनिता को इतना भाया कि वह तुरन्त एक किलकारी मारकर झड़ गई. बात यह थी कि विनिता को भी अपनी सुंदर भाभी बहुत अच्छी लगती थी. अपनी एक दो सहेलियों से उसने स्त्री और स्त्री सम्बन्धो के बारे में सुन रखा था. उसकी एक सहेली तो अपनी मौसी के साथ काफ़ी करम करती थी. विनिता भी ये किसी सुन सुन कर अपने भाभी के प्रति आकर्षित होकर कब से यह चाहती थी कि भाभी उसे बाहों में लेकर प्यार करे. अब जब कल्पनानुसार उसकी प्यारी भाभी अपने मोहक लाल ओठों से सीधे उसकी चूत चूस रही थी तो विनिता जैसे स्वर्ग में पहुंच गई. उसकी चूत का रस सुषमा की जीभ पर लिपटने लगा और सुषमा मस्ती से उसे निगलने लगी. बुर के रस और विनोद के वीर्य का मिलाजुला स्वाद सुषमा को अमृत जैसा लगा और वह उसे स्वाद ले लेकर पीने लगी. अब सुषमा भी बहुत कामातुर हो चुकी थी और अपनी जांघे रगड़ रगड़ कर स्खलित होने की कोशिश कर रही थी. विनिता ने हाथो में सुषमा भाभी के सिर को पकड़ कर अपनी बुर पर दबा लिया और उसके घने लम्बे केशों में प्यार से अपनी उंगलियां चलाते हुए कहा. “भाभी, तुम भी नंगी हो जाओ ना, मुझे भी तुंम्हारी चूचियां और चूत देखनी है

.” सुषमा उठ कर खड़ी हो गई और अपने कपड़े उतारने लगी. उसकी किशोरी ननद अपनी ही बुर को रगड़ते हुए बड़ी बड़ी आंखो से अपनी भाभी की ओर देखने लगी. उसकी खूबसूरत भाभी उसके सामने नंगी होने जा रही थी. सुषमा ने साड़ी उतार फ़ेकी और नाड़ा खोल कर पेटीकोट भी उतार दिया. ब्लाउज के बटन खोल कर हाथ ऊपर कर के जब उसने ब्लाउज उतारा तो उसकी स्ट्रैप्लेस ब्रा में कसे हुए उभरे स्तन देखकर विनिता की चूत में एक बिजली सी दौड़ गई. भाभी कई बार उसके सामने कपड़े बदलती थी पर इतने पास से उसके मचलते हुए मम्मों की गोलाई उसने पहली बार देखी थी. और यह मादक ब्रेसियर भी उसने पहले कभी नहीं देखी थी. अब सुषमा के गदराये बदन पर सिर्फ़ सफ़ेद जांघिया और वह टाइट सफ़ेद ब्रा बची थी. “भाभी यह कन्चुकी जैसी ब्रा तू कहां से लाई? तू तो साक्षात अप्सरा दिखती है

इसमे.” सुषमा ने मुस्करा कर कहा “एक फ़ैशन मेगेज़ीन में देखकर बनवाई है

, तेरे भैया यह देखकर इतने मस्त हो जाते है

कि रात भर मुझे चोद लेते है

.” “भाभी रुको, इन्हें मै निकालूंगी.” कहकर विनिता सुषमा के पीछे आकर खड़ी हो गई और उसकी मान्सल पीठ को प्यार से चूमने लगी. फिर उसने ब्रा के हुक खोल दिये और ब्रा उछल कर उन मोटे मोटे स्तनों से अलग होकर गिर पड़ी. उन मस्त पपीते जैसे उरोजों को देख्कर विनिता अधीर होकर उन्हें चूमने लगी. “भाभी, कितनी मस्त चूचियां है

तुंम्हारी. तभी भैया तुंहारी तरफ़ ऐसे भूखों की तरह देखते है

.” सुषमा के चूचुक भी मस्त होकर मोटे मोटे काले कड़क जामुन जैसे खड़े हो गये थे. उसने विनिता के मुंह मे एक निपल दे दिया और उस उत्तेजित किशोरी को भींच कर सीने से लगा लिया. विनिता आखे बन्द कर के बच्चे की तरह चूची चूसने लगी. सुषमा के मुंह से वासना की सिसकारियां निकलने लगीं और वह अपनी ननद को बाहों में भर कर पलंग पर लेट गई. “हाय मेरी प्यारी बच्ची, चूस ले मेरे निपल, पी जा मेरी चूची, तुझे तो मै अब अपनी चूत का पानी भी पिलाऊंगी.” विनिता ने मन भर कर भाभी की चूचियां चूसीं और बीच में ही मुंह से निकाल कर बोली. “भाभी अब जल्दी से मां बन जाओ, जब इनमें दूध आएगा तो मै ही पिया करूंगी, अपने बच्चे के लिये और कोई इन्तजाम कर लेना.” और फ़िर मन लगा कर उन मुलायम स्तनों का पान करने लगी. “जरूर पिलाऊंगी मेरी रानी, तेरे भैया भी यही कहते है

. एक चूची से तू पीना और एक से तेरे भैया.” सुषमा विनिता के मुंह को अपने स्तन पर दबाते हुए बोली. अपने निपल में उठती मीठी चुभन से सुषमा निहाल हो गई थी. अपनी पैंटी उसने उतार फ़ेकी और फ़िर दोनों जांघो में विनिता के शरीर को जकड़कर उसे हचकते हुए सुषमा अपनी बुर उस की कोमल जांघो पर रगड़ने लगी. सुषमा के कड़े मदनमणि को अपनी जांघ पर रगड़ता महसूस करके विनिता अधीर हो उठी. “भाभी, मुझे अपनी चूत चूसने दो ना प्लीज़” “तो चल आजा मेरी प्यारी बहन, जी भर के चूस अपनी भाभी की बुर, पी जा उसका नमकीन पानी” कहकर सुषमा अपनी मांसल जांघे फैला कर पलंग पर लेट गई. एक तकिया उसने अपने नितम्बों के नीचे रख लिया जिससे उसकी बुर ऊपर उठ कर साफ़ दिखने लगी. वासना से तड़पती वह कमसिन लड़की अपनी भाभी की टांगों के बीच लेट गई. सुषमा की रसीली बुर ठीक उसकी आंखो के सामने थी. घनी काली झांटो के बीच की गहरी लकीर में से लाल लाल बुर का छेद दिख रहा था. “हाय भाभी, कितनी घनी और रेशम जैसी झांटे है

ं तुम्हारी, काटती नहीं कभी?” उसने बालों में उंगलियां डालते हुए पूछा. “नहीं री, तेरे भैया मना करते है

ं, उन्हें घनी झांटे बहुत अच्छी लगती है

ं.” सुषमा मुस्कराती हुई बोली. “हां भाभी, बहुत प्यारी है

ं, मत काटा करो, मेरी भी बढ़ जाएं तो मैं भी नहीं काटूंगी.” विनिता बोली. उससे अब और न रहा गया. अपने सामने लेटी जवान भरी पूरी औरत की गीली रिसती बुर में उसने मुंह छुपा लिया और चाटने लगी. सुषमा वासना से कराह उठी और विनिता का मुंह अपनी झांटो पर दबा कर रगड़ने लगी. वह इतनी गरम हो गई थी कि तुरन्त झड़ गई. “हाय मर गई रे विनिता बिटिया, तेरे प्यारे मुंह को चोदूं, साली क्या चूसती है

तू, इतनी सी बच्ची है

फ़िर भी पुरानी रंडी जैसी चूसती है

. पैदाइशी चुदैल है

तू” दो मिनट तक वह सिर्फ़ हांफ़ते हुए झड़ने का मजा लेती रही. फ़िर मुस्कराकर उसने विनिता को बुर चूसने का सही अन्दाज सिखाना शुरू किया. उसे सिखाया कि पपोटे कैसे अलग किये जाते है

ं, जीभ का प्रयोग कैसे एक चम्मच की तरह रस पीने को किया जाता है

और बुर को मस्त करके उसमे से और अमृत निकलने के लिये कैसे क्लाईटोरिस को जीभ से रगड़ा जाता है

. थोड़ी ही देर में विनिता को चूत का सही ढंग से पान करना आ गया और वह इतनी मस्त चूत चूसने लगी जैसे बरसों का ज्ञान हो. सुषमा पड़ी रही और सिसक सिसक कर बुर चुसवाने का पूरा मजा लेती रही. “चूस मेरी प्यारी बहना, और चूस अपनी भाभी की बुर, जीभ से चोद मुझे, आ ऽ ह ऽ , ऐसे ही रानी बिटिया ऽ , शा ऽ बा ऽ श.” काफ़ी झड़ने के बाद उसने विनिता को अपनी बाहों में समेट लिया और उसे चूम चूम कर प्यार करने लगी. विनिता ने भी भाभी के गले में बाहें डाल दीं और चुम्बन देने लगी. एक दूसरे के होंठ दोनों चुदैलें अपने अपने मुंह में दबा कर चूसने लगीं. सुषमा ने अपनी जीभ विनिता के मुंह में डाल दी और विनिता उसे बेतहाशा चूसने लगी. भाभी के मुख का रसपान उसे बहुत अच्छा लग रहा था. सुषमा अपनी जीभ से विनिता के मुंह के अन्दर के हर हिस्से को चाट रही थी, उस बच्ची के गाल, मसूड़े, तालू, गला कुछ भी नहीं छोड़ा सुषमा ने. शैतानी से उसने विनिता के हलक में अपनी लंबी जीभ उतार दी और गले को अन्दर से चाटने और गुदगुदाने लगी. उस बच्ची को यह गुदगुदी सहन नहीं हुई और वह खांस पड़ी. सुषमा ने उसके खांसते हुए मुंह को अपने होंठों में कस कर दबाये रखा और विनिता की अपने मुंह में उड़ती रसीली लार का मजा लेती रही. आगे की कहानी अगले भाग में . . . और … +0 चुदाई हो तो ऐसी 1 चुदाई हो तो ऐसी 3 .

Leave a Reply