maa ki adala badli kar chudai रुबीना और नसरीन की चूत

views

Latest sotry by : – समीर हाय रीडर्स, और इसे पढ़ने वाली सभी लड़कियाँ, आंटीया, भाभीया, को शुभम पहलवान का प्यार भरा नमस्कार, मेरा नाम समीर है

और उम्र 22 साल, मेरे लंड की साइज़ का तो सवाल ही नही उठता जिन लड़कियो, आंटीयो, भाभीयो को मेने अभी तक चोदा है

वो ही समझ सकती है

मेरे लंड की महिमा को और में मुंबई मे रहता हूँ, पहले मे पुणे गया था पढाई के लिये, वहीं से मेने चोदने का काम शुरू किया था पर पुणे मे होते हुये भी मुंबई से बहुत कॉल आते थे मेरे लिये, इसलिये मेने सोचा की मुंबई मे कस्टमर की कमी नही है

तो क्यो ना मुंबई जाकर ये काम किया जाये इसलिये मे वापस आ गया, काम अच्छा चल रहा है

, पूरे मुंबई से मुझे कॉल आते है

, और अक्सर कई बार बहुत रोचक और सेक्सी घटनाये मेरे साथ होती है

जिन्हें मे किसी को नही बता सकता पर urzoy latest new hindi sex stories के माध्यम से अब मे आप को बता सकता हूँ, भला हो इसका, मे अपनी कहानियाँ अगर किसी को नही बता पाता तो मेरा पेट फट जाता. चलो अब आगे की स्टोरी सुनो. एक बार मुझे किसी का मेरे पास कॉल आया एक लड़की का कॉल था वो मेरी सर्विस लेना चाहती थी मेने उसकी उम्र पूछी तो मे सुनकर हेरान रह गया. वो 18 साल कि लड़की थी मेने उससे पूछा की इससे पहले क्या आपने सेक्स किया है

वो बोली नही इसलिये तो आपकी स्टोरी पढ़ कर आपसे कॉन्टेक्ट किया है

मेने. आप पेसे की चिंता नही करना आप जितना भी लोगे मे दे दूँगी में अमीर परिवार से हूँ. मेने बोला ठीक है

. मुझे कब और कहाँ आना है

तो उसने मुझे आपना मोबाइल नम्बर दिया और उस मोहल्ले मे आने को बोला जहाँ वो रहती थी मे उसके मोहल्ले मे पहुँच गया दिन के 12 बज रहे थे और मेने उसे मोबाइल लगाया तो उसने बोला की आप अभी कहाँ है

मेने बताया की में यहा पर हूँ तो वो बोली की आप वही रूको मे आती हूँ करीब 15 मिनिट इंतज़ार के बाद मेरा मोबाइल बज़ा जेसे ही मेने जेब से मोबाइल निकाल कर फोन उठाना चाहा कॉल कट हो गया मेने नम्बर देखा तो उसका ही मिस कॉल था तभी मेरे सामने एक बहुत ही खूबसुरत गोरी नाज़ुक जीन्स टी शर्ट पहने स्कूटी पर सवार एक 18 साल की लड़की रुकी उसने मुझे बोला तुम समीर हो मेने कहाँ हाँ उसने बोला में ऋतु बेठो स्कूटी पर मे उसे हेरानी से देख रहा था. वो बहुत ही कमसिन और नाज़ुक परी की तरह थी उसकी चूची करीब 28 के होंगे हाँ छोटे छोटे और गांड 30. मे उसके साथ चल पड़ा एक बहुत बड़े बंगले के अन्दर हम दाखिल हो गये घर पर कोई नही था उसने दरवाज़ा खोला और अन्दर आने को कहा अन्दर आते ही दरवाजा बंद कर दिया घर बहुत ही आलिशान था मे समझ गया की किसी अमीर की बेटी है

और मे सोफे पर बेठ गया मेने पूछा की किस क्लास मे पढ़ती है

आप तो वो बोली की प्लीज आप मुझसे कुछ नही पूछना वो किसी बहुत ही समझदार लड़की की तरह बात कर रही थी मेने बोला ठीक है

अब वो मुझे बहुत ही कामुक निगाह से देखने लगी वो मेरे सामने ही खड़ी थी वो मुझे लगातार देखे जा रही थी और उसकी साँसे ज़ोर ज़ोर से चल रही थी फिर धीरे धीरे वो मेरे पास आई और लम्बी साँस लेकर मेरे सामने घुटनो के बल बेठ गई उसने दोनो हांथ मेरी जाघो पर रख कर अपना सर मेरी गोद मे रख दिया मेने प्यार से उसके सर पर हांथ रखा तो फिर उसने एक लम्बी साँस ली और अपना सर मेरी गोद मे दबा दिया उसकी आँखें बंद थी और ज़ोर ज़ोर से साँसे चल रही थी. उसने अपने होठ मेरे लंड पर पेन्ट के उपर से ही लगाते हुये सर घुमा कर अपने गाल मेरे लंड से रगड़ने लगी वो अपने दोनो हांथ मेरी कमर से लपेटे हुये थी. वो बहुत ही गर्म हो चुकी थी लगातार अपने होंठ और गाल मेरे कमर के नीचे जांघों के पास और मेरे लंड पर रगड रही थी. मे अपने हांथ उसके सर से होते हुये उसकी पीठ पर फेरता रहा करीब 10 मिनिट तक वो ऐसे ही मुझे चूमती रही फिर मेने उसकी दोनो बाजू पकड़कर उसे उठाया उसकी आँखे बंद थी और होंठ काँप रहे थे, मुझे उसकी हालत देख कर ऐसा लग रहा था मानो वो चूत से सेक्स के लिये तड़प रही थी उसकी साँसे तेज़ चलने के कारण और बहुत अधिक उतेज़ित होने के कारण उसका शरीर ढीला पड़ गया था. वो काँप रही थी. मेने प्यार से उसे सोफे पर बेठा कर उसका सर अपनी बाहों मे ला कर सीने से लगाया. उसके सर पर हांथ फेरते हुये उसके गाल सहलाते हुये मेने उसके होठ पर अपने होठ रख दिये. उसके गुलाब की पंखुड़ियों जेसे होठ को मे चूसने लगा वो भी मेरा साथ देने लगी और उसने एक हाथ मेरे सर के पीछे डाल कर अपनी तरफ खीच लिया करीब 10 मिनिट तक हम किस करते रहे अब वो भी मुझे चूमने लगी उसने मेरी शर्ट के बटन खोल दिये और मेरे सीने को चूमने लगी मेने अपने दोनो हाथो मे उसका सर पकड़ा और अब मेने उसे चूमना शुरू किया उसके होठों से होते हुये उसकी गर्दन पर अपने होठ लगा दिये उसके कान को अपने मुँह मे भर लिया वो मछली की तरह तड़फ़ उठी फिर मे गर्दन से होते हुये उसकी चूची पर अपने होंठ लगा दिये एक हाथ से मे एक चूची मसलने लगा। वो बहुत उतेज़ित हो गयी वो एक दम मुझसे अलग हुई और एक ही झटके मे उसने अपना टी शर्ट निकाल फेंका. अब वो गुलाबी कलर की ब्रा मे थी उसने झटके से बिना हुक खोले खीच कर ब्रा भी निकाल दी ब्रा निकलते ही ग़ज़ब के बूब्स उछल कर बाहर आ गये. गुलाबी निप्पल देख कर मे भी हेरान हो गया. वो बहुत जल्दी मे थी. ब्रा उतार ते ही वो कुछ रुकी और मुझे लाचार नज़रो से देखने लगी और एक हाथ से उसने अपना बूब्स पकड़ा और एक हाथ मेरी तरफ बड़ा कर मेरे सर पर पीछे से पकड़ कर तेज़ी से अपनी तरफ़ खींचा और दुसरा हाथ जिससे वो अपना चूची पकड़े हुये थी मेरे मुँह के पास लाकर एकदम से अपनी चूची का निप्पल जर्बदस्ती मेरे मुँह मे घुसेड दिया निप्पल मेरे मुँह में घुसते ही उसने एक गहरी साँस ली और मेरा सर ज़ोर से अपने सीने पर दबा दिया मे भी पागलो की तरह उसके निप्पल को ज़ोर ज़ोर से चूस रहा था हम अभी भी सोफे पर बेठे थे. वो मेरी गोद मे दोनो तरफ पेर डालकर बेठी थी अब उसने अपने हाथ मे दुसरा बूब्स लिया और मेरे मुँह मे से पहली चूची निकाल कर दुसरी चूची घुसेड दी मे दुसरी चूची चूसने लगा. उसे बहुत मज़ा आ रहा था. मेने चूची चूसते हुये उसकी जीन्स के बटन खोल दिये. अब मेने अपने दोनो हाथ उसकी गांड पर बांध कर उसे मजबूती से पकड़ कर निप्पल मुँह मे लिये ही मे खड़ा हो गया उसे किसी बच्चे की तरह मे गोद मे लेकर खड़ा रहा और उसकी चूची चूस रहा था ऐसे ही घूमा और सोफे की तरफ मुँह करके उसे सोफे पर सीधा लेटा दिया पर मे अभी भी अपने मुँह मे उसका निप्पल लिये हुये था. ऐसे ही चूची चूसते हुये मेने उसकी पेन्ट खीच कर उतार दी अब वो मेरे सामने सिर्फ पेन्टी मे थी मेने उसकी चूची से अपना मुँह हटा कर उसके पेट से होते हुये उसकी चूत पर अपने होंठ रख दिये चूत पर होंठ रखते ही उसने अपनी गांड बहुत उपर तक उठा दी दोनो पेरो के सहारे वो अपनी गांड उपर उठाये हुये थी।

मानो कह रही हो की खा जाओ मेरी इस चूत को. मे कुछ देर तक पेन्टी के उपर से ही उसकी चूत चूमता रहा जांघो को भी चूमता रहा. फिर मेने उसकी पेन्टी खीच कर निकाल दी. नंगी चूत देख कर मे मस्त हो गया क्या चूत थी यार एक भी बाल नही था फूली हुई बिल्कुल ब्रेड की तरह मलाई जेसी कुँवारी चूत मेरे सामने थी मेने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो देखा वो झड़ चुकी थी फिर मेने उसकी गांड के छेद पर हाथ लगाया. हाथ लगाते ही उसने मेरे दोनो बाजू ज़ोर से पकड़ लिये मे फिर भी उसके गांड के छेद से खेलता रहा तो उसने अपने नाखुन मेरे बाजुओं मे गड़ा दिये जिनसे खून निकलने लगा. मे फिर भी नही रुका और उसकी गांड पर हाथ फेरता रहा तो अब उसने मेरे सर के बाल ज़ोर से पकड़ लिये. वो मछली की तरह मचल रही थी. उसके मुँह से सी सी की बहुत तेज आवाज़ निकल रही थी और बार बार अपनी गांड उपर उठा रही थी. मतलब जब मे गांड के छेद पर अपनी अगुलियां फेर रहा था तो उसे सहन तो नही हो रहा था मगर वो तकलीफ़ मीठी तकलीफ़ थी. क्या समझे तो उसे तकलीफ़ तो हो रही थी पर स्वर्ग का मज़ा भी आ रहा था. अब उसने अपने दोनो हाथो से मेरी पेन्ट के बटन खोले और पेन्ट नीचे सरका दी. मे उससे अलग हुआ और तेज़ी से अपनी पेन्ट और पेन्टी निकाल कर अलग कर दी. पेन्टी निकालते ही मेरा 7” इंच लम्बा लंड बाहर लहराने लगा मेरा लंड देख कर वो उठ कर सोफे पर घुटने मोड़ कर बेठ गई और लपक कर मेरा लड अपने हाथ मे ले लिया वो कुछ देर मेरे लंड को प्यार से दुलारती रही फिर धीरे धीरे अपना मुँह मेरे लंड के पास लाई और अपने होठ लंड पर फेरने लगी. फिर लपक कर पूरा लंड अपने मुँह मे ले लिया वो पागलो की तरह मेरा लंड चूस रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था करीब 10 मिनिट तक लंड चूसने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुँह से निकाला और मेरा लंड हाथ मे पकड़े हुये अपना हाथ नीचे ले गई और मेरा लंड अपनी चूत से रगड़ने लगी. वो बोली इसे जल्दी से अन्दर डालो इसके लिये मे कितने दिनो से बेचेन हूँ अब सहन नही होता प्लीज जल्दी अन्दर डालो. मेने कहा थोड़ा दर्द होगा. तुम सहन कर लेना. वो बोली तुम मेरी चिन्ता मत करो मेरी सेक्स कि तड़प से ज्यादा कोई दर्द नही है

मेरे लिये प्लीज जल्दी डालो ना. मे कुछ मुस्कुराया फिर मेरे लंड ने अपना रास्ता तलाशा और दरवाजे पर आकर एक ज़ोरदार धक्का दिया. वो चीख पड़ी उसकी चीख पूरे हॉल मे गूँज गई मे रुक गया अभी मेरा सिर्फ 3”इंच लंड ही अन्दर गया था. मुझे मालूम था की मुझे केसे आराम आराम से करना है

मेने महसूस किया उसकी चूत से खून निकल रहा था. पर मेने उसे नही बताया मेने प्यार से उसे किस किया और उसके सामान्य होने का ऐसे ही इंतज़ार करने लगा. उसके चहरे पर कुछ शान्ति देख कर मेने उसे चूमते हुये धीरे धीरे धक्के मारने लगा अब मेरे बहादुर लंड ने चूत मे और अंदर जाने का रास्ता बना लिया था. ये कुँवारी चूत पहले भी कई बार चख चुका है

मेरा लंड इसके लिये 15 साल की लड़की या 50 साल की कोई भी हो मेरा लंड बखूबी अपना काम जानता है

. अब लगभग पूरा लंड उसकी चूत के अन्दर घुस चुका था. मे धक्के मार रहा था. अब उसे मज़ा आने लगा. वो भी नीचे से गांड उपर उछाल रही थी. वो पागल की तरह गांड को उपर उछाल कर गांड घुमा भी रही थी मे समझ गया की वो मेरे लंड का एहसास चूत की सभी दीवारो पर टच करके मज़े ले रही है

. ऐसी भूखी शेरनी वो भी ऐसी बहुत कम मिलती है

मुझे भी पूरा आनद आ रहा था. मे ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा वो भी आँखे बंद किये हुये मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी. करीब 45 मिनिट चुदाई करने के बाद वो बोली मुझे उपर आना है

मेने उसे अपनी बाहों मे जकड़ कर सोफे पर पलटी मारी अब वो मेरे उपर थी कुछ देर वो रुकी और चूत के अन्दर मेरे लंड को अपनी गांड हिलाकर फ्री किया और वो शुरू हो गई. अब वो पागलो की तरह आगे पीछे हो रही थी उसके मुँह से सी सीसी की आवाज़ तेज होती गई और उसने अपनी स्पीड बड़ा दी और मुँह से अजीब अजीब आवाज़े निकालने लगी सी सी हुम्म आ आया ह हूंम्म सी सीईई और तेज़ी से आगे पीछे होते हुये शायद अब वो झड़ने वाली थी और ज़ोर ज़ोर से आगे पीछे होते हुये आहह सी आह सी वो इतनी ज़ोर से चिल्लाई की मे भी यहाँ देखने लगा उसकी जोरदार चुदाई हुई और उसकी सारी भड़ास उसकी चीख से निकल गई. मतलब पूरे दिल से की चुदाई में कोई कसर बाकी नही रही अब वो कुछ शान्त पड़ गई और उसके होंठों पर हल्की मुस्कान आ गई वो ऐसे ही मेरा लंड उसकी चूत मे डाले हुये मेरे सीने पर मादक अन्दाज से मुस्कुराते हुये चिपक गई उसके चेहरे पर वो संतुष्टि नज़र आ रही थी. जेसे उसे जिंदगी की सारी खुशीयां मिल गई हो मे प्यार से उसके सर पर हाथ फेरने लगा पर अभी मेरा लंड बहादुर सीना ताने खड़ा हुआ था. उसकी प्यास अभी बुझी नही थी पर मे पहले अपने कस्टमर की संतुष्टि देखता हूँ वो बहुत खुश थी. कुछ देर बाद उसने घड़ी की तरफ देखा 4 बज़ रहे थे वो बोली 6 बज़े मेरे मम्मी पापा आ जायेगे मे समझ गया की मुझे जल्दी निकलना होगा मेने उसे अपनी बाहों मे पकड़ कर फिर पलटी मारी मेरा लंड अभी भी उसकी चूत मे था मेने उसे फिर चुमना शुरू कर दिया और धक्का मारने लगा वो फिर तैयार हो गई उसे भी मज़ा आने लगा. मेने उसे करीब 30 मिनिट फिर चोदा और अपना वीर्य उसकी चूत मे ना करके बाहर कर दिया उसकी चूत के उपर और जाघो पर मेरा बहुत सारा वीर्य गिर गया मेने उसे देखा तो वो मुस्कुराने लगी वो बोली कोई बात नही मे साफ कर लूँगी कुछ देर हम दोनो बाहों मे बाहें डाले सोते रहे फिर हम उठे और बाथरूम मे जाकर साफ करके कपड़े पहने वो बहुत खुश थी. वो बोली की सच जितना मज़ा तुमने मुझे दिया शायद जिंदगी मे और कोई कभी नही दे सकता मे तुम्हें कभी नही भूल पाऊँगी और उसने मेरा माथा चूमा और उसने फिर मुझे एक लिफ़ाफ़ा दिया जिसमे रुपये थे और शाम के 5:30 बज रहे थे मेने भी उसे किस किया और उधर से निकल गया वो दरवाजे पर खड़ी मुझे जाते देखती रही पर मेने उसे मुड कर नही देखा. तो दोस्तों केसी लगी मेरी ये सच्ची कहानी मुझे ज़रूर बताना धन्यवाद loading… और … +0 रुबीना और नसरीन की चूत एयरहोस्टेस की चुदाई .

Leave a Reply