दोस्त की प्रेमिका के साथ पहला अनुभव

views

“नमस्कार दोस्तों .. मेरा नाम त्रयम्बकेश (गोलू) है

, मैं सिंगरौली (एमपी) का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 20 साल है

.. रंग गोरा है

.. वो 5’8″ है

। मैं एक कूल बॉडी का मालिक हूं। मैं हूँ

आज से लगभग 2 साल पहले की बात है

। मेरी एक सहेली थी संजू .. उसकी एक गर्लफ्रेंड थी जिसका नाम रचना था। पहले मुझे रचना के बारे में कुछ नहीं पता था, लेकिन जब से मैंने संजू से दोस्ती की .. तब उसने मुझे रचना के बारे में बताया।

रचना एक खूबसूरत खूबसूरती की मालकिन थी .. उसने संजू से एक-दो बार चुदवाया भी था, यह मुझे संजू ने बताया था।
फिर संजू ने मेरी रचना के साथ थोड़ी दोस्ती कर ली।

एक दिन रच्छा ने संजू से मेरा नंबर लिया और मुझसे कुछ देर तक अपने फोन पर बात की। मुझे उस दिन जाना था .. इसलिए मैंने ज्यादा बात नहीं की और चुदाई की।

फिर वो मुझे रोज बुलाने लगी और हमारी दोस्ती अच्छी हो गई। हम दोनों हर विषय पर खुलकर बात करने लगे।
एक दिन उसने मुझसे पूछा – तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है

?
मैंने कहा नहीं’।

वैसे, उसे पहले से ही पता था कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है


उसने कहा- तुम्हें कोई पसंद है

?
मैंने कहा- हाँ एक लड़की थी जिसे मैं बहुत चाहता था।
‘कौन सी लड़की?’
मैंने बताया- सुमन ।।

रचना ने मुझसे सुमन के बारे में पूछा और पता चला कि वह सुमन को जानती थी।


रचना और सुमन का घर पास में ही था, रचना ने मुझे सुमन से कहा।
इस तरह मेरी सुमन से दोस्ती हो गई।

एक दिन सुमन ने मुझे प्रपोज किया और हमारे फोन पर बात करने लगी। उसके दो महीने बाद सुमन पढ़ाई के लिए भोपाल चली गई। मैं रोज सुमन को मिस करता था, मैं उससे फोन पर बात करता था और रोज उसके नाम की मुठ मारता था।

एक दिन रात के करीब 2 बजे राचना का फोन आया, उसने कहा, क्या कर रहे हो?
मैंने कुछ नहीं कहा।
तो बोली- क्या तुम सो नहीं सकते?
तो मैंने कहा- नहीं दोस्त ..
‘मैं बहुत आदमी नहीं आ रहा हूँ ..’

मैंने भी मौके का फायदा उठाया और कहा- मैं जिस चीज के लिए तरस रहा हूं वह नहीं मिल रही है


वो थोड़ा गर्म हुई और बोली- क्या मैं कुछ कर सकती हूँ?
मैं समझ गया कि लोहा गर्म है

, हथौड़ा मारना चाहिए, मैंने कहा- आप क्या कर सकते है

ं?
तो वो बोली- जो भी कहो ..
मैंने कहा- पक्का?

वो मुझसे पूछने लगी- क्या तुमने कभी सेक्स किया है

?
इतना साफ़ सुनकर मुझे उसकी चुदास समझ में आ गई।
मैंने भी खुल कर कहा- मैंने अपनी चूत भी नहीं देखी है

। और आप सेक्स के बारे में बात कर रहे है

ं।
चूत का वो शब्द सुनकर वो खुल कर बोली- क्या तुम मेरे साथ चुदाई करोगे?
तो मैंने ताना मारते हुए कहा- अरे यार .. तुम मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड हो।

वो बोली- तो क्या हुआ .. वो मुझे चोद रहा है

.. पर डर के कारण मुझे पता नहीं चला, वो जल्दी से झड़ गया और मेरी प्यास भी पूरी नहीं हुई।
मैंने कहा- मेरी जान कब आएगी प्यास बुझाने?
उसने कहा- जब भी तुम्हारा लंड खड़ा होता है

.. तो मेरी चूत को बस चोदने को आता है

फिर उस दिन उसके साथ फोन सेक्स करने के बाद मैंने उसकी चूत के नाम पर मुठ मार दी। इसके बाद मैंने अगले दिन उससे मिलने की पुष्टि की और सो गया।

अगले दिन उसने मुझे रात को 1 बजे अपने घर के पीछे बुलाया। वह वहां चादर लेकर खड़ी थी।

जब मैं उसके पास पहुँचा तो वो मेरे करीब आई और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगी।

यह मेरा पहला अनुभव था, यह सब अजीब लग रहा था .. लेकिन यह मजेदार भी था। वो 32-28-34 के साइज़ की रही होगी .. वो बहुत मस्त थी, मुझे उसके साथ बहुत मज़ा आ रहा था।

फिर उसने वो चादर बिछाई और लेट गई, मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसके होंठों को चूसने लगा और बहुत जोर से उसके दूध दबाने लगा, वो भी पूरे जोश में आ गई थी और मुझे कस कर पकड़ कर आहें भर रही थी।

फिर मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी और उसके दूध को ब्रा के ऊपर से रगड़ने लगा, वो सिर्फ़ h आह्ह .. उम्म्ह… अहह… हह… याह… ह्ह्ह .. ’की आवाजें निकाल रही थी।

मेरा लंड एकदम कड़क हो गया था। मेरा लंड पैंट फाड़ कर बाहर आने को बेताब था। उसकी दोनों जाँघों के बीच मेरा लंड उसकी चूत को पैंट के ऊपर से रगड़ रहा था।

मैंने उसके सारे कपड़े निकाल दिए और उसे बिल्कुल नंगा कर दिया, उसकी नंगी चूत क्या मस्त माल थी .. एकदम चिकनी और फूली हुई।
मैंने उसके दोनों पैर फैला दिए और उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया ‘उम्म्ह … अहह … हय … याह …’ सच में यार क्या मस्त चूत थी उसकी! ”
“उसने अपनी गांड उठाई और अपनी चूत को मेरे मुँह पर दबाने लगी, जल्द ही उसका पानी गिर गया। मैंने उसके बुर को चाटने के बाद सारा पानी पी लिया।

फिर उसने मेरा लंड पकड़ लिया तो चौंक गई और बोली- ओह्ह .. तुम्हारा इतना मोटा और लंबा है

.. आज तो तुम मेरी चूत को ज़रूर फाड़ोगे।
मैंने कहा- मेरी जान आपकी चूत को फाड़ने आया हूँ!

मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और उसके मुँह को चोदने लगा।
मेरे मुँह से आवाजें निकलने लगीं a आआआ .. ऊओह .. आआआआआ… आआअहह .. ’
क्या मस्त लंड था चाटने में, यार .. क्या मस्त लंड चूस रही थी।

फिर मैंने उसके मुँह से लंड निकालना शुरू किया और उसकी चूत में डाल दिया, वैसे ही थोड़ा लंड चूत के अंदर चला गया।
वो थोड़ा चिल्लाई और बोली- प्लीज़ थोड़ा सा चोदो ..
मैंने कहा कि टेंशन मत लो, रानी .. आज मैं अपना भोसड़ा बनाने के बाद तुम्हें छोड़ दूँगा।

वो बस just आआआ .. ह्ह्ह .. आआअहह .. ’करती रही।

फिर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर एक जोरदार झटका लगाया .. मेरा सारा लंड उसकी चूत में घुस गया, उसकी आँखों में आँसू आ गए।

फिर मैंने उसे धीरे-धीरे चोदना चालू रखा, अब उसे भी मज़ा आ रहा था, वो भी अपनी गांड उठा-उठा कर मज़े ले रही थी।

हाय, तुम्हारा लंड मूसल है

.. आआहह .. .. आह्ह… आआहहब .. फाड़ दो मेरी चूत को, आआहह .. आज।

उसका पानी दो बार गिर चुका था .. लेकिन मैं अभी भी था। लगभग 5 मिनट तक लगातार चोदने के बाद, मैंने अपना लंड निकाला और उसके मुँह में डाल दिया, मैंने लंड का सारा पानी उसके मुँह में भर दिया।

उस दिन मैंने उसे एक बार फिर चोदा। तब तब से, वह मुझे और चूजों उसे बिल्ली और गधे दैनिक कहता है

। चोदते-चोदते उसका लंड का साइज़ और भी बड़ा हो गया है

अगर आपको मेरी कहानी पसंद आई? कृपया मुझे मेल करें।
अब अगली कहानी में मैं आपको लिखूंगा कि कैसे मुझे मेरी प्रेमिका सुमन मिली।

Leave a Reply