पड़ोस की जवान लड़की ने चुदाई की

views

“हेलो डियर रीडर .. मैं दीपक की एक कहानी लेकर हाजिर हूँ .. इसे पढ़ने के बाद लड़कियाँ बहुत गीली हो जाएंगी और लड़कों को लंड मिल जाएगा।”

यह कुछ दिन पहले की बात है

। मेरे पड़ोस में एक नया परिवार रहने आया था।

परिवार में एक बहुत ही खूबसूरत लड़की भी थी .. जिसका नाम प्रिया था। उसके बड़े स्तन और उभरी हुई गांड देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाए .. वो इतना मस्त माल था।

वो अक्सर हमारे घर आती थी।

मैं उनके परिवार के लिए भी काफी खुला था। उनकी माँ मुझे किसी काम के लिए बाज़ार भेजती थीं .. जिसकी वजह से मैं उनके घर आता था।

मैं प्रिया को बहुत पसंद करने लगा और उसके बारे में सोचता रहा।

एक दिन उसकी माँ हमारे घर आई। उसने कहा- मैं किसी काम से बाहर जा रही हूँ और प्रिया घर पर अकेली है

.. तुम उसका ख्याल रखना।
मैंने कहा हाँ’।

जब मैं दोपहर को उसके घर गया तो प्रिया ने दरवाजा खोला।

मैं उसे देखकर है

रान था। उसने एक टी-शर्ट और जींस पहन रखी थी।

उसके मोटे पैर टी-शर्ट से अलग दिख रहे थे। मेरी नजर उस पर टिकी थी।


प्रिया ने कहा, तो तुम क्या देख रहे हो?
मैंने कुछ नहीं कहा।
उसने अंदर आने के लिए कहा, हम दोनों अंदर गए और बैठ गए।

वह चाय बनाने चली गई, मैंने टीवी चालू किया और फिल्में देखने लगा।
वो मुझे थोड़ी देर के लिए चाय पिलाई। हम दोनों चाय पीने और मूवी देखने लगे। फिल्म में एक रोमांटिक दृश्य ensues .. जिसमें नायक नायिका चुंबन किया गया था।

इस दृश्य को देखकर मेरा लंड सलामी देने लगा।

प्रिया ये सब देख रही थी .. वो भी गर्म हो रही थी।

उसने मेरा लंड पकड़ लिया और मसलने लगी।

मैं यह सब देखकर है

रान था। मैं उठा, और प्रिया चूमने शुरू कर दिया .. वह मुझे समर्थन किया गया था।

मैं उसकी टी-शर्ट के ऊपर से ही उसके निप्पलों को दबाने लगा। वह सिसकारिया लेने लगी। वो लगातार गर्म हो रही थी।

उसने मेरी पेंट उतार दी और मुँह से लंड चूसने लगी। मुझे बहुत मजा आ रहा था। वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर आगे पीछे करने लगी।

कुछ ही देर में मेरा सारा वीर्य उसके मुँह में निकल गया और वो सारा रस पी गई।

मैंने उसकी टीशर्ट और जींस उतार दी। उसने गुलाबी पेंटी और ब्रा पहनी हुई थी, जिसमें वो बहुत मस्त लग रही थी।

मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी ब्रा भी निकाल दी।

उसकी गोरी बड़ी मोटी गोले मेरे सामने पिचकने लगी।

मैं उसके मम्मों को मुँह में लेकर चूसने लगा। प्रिया के मुँह से .. आह .. उहह .. उम्म्ह… अहह… हय… याह… उह्ह्ह .. ’की आवाज आ रही थी।

मैं उसके बूब्स को पांच मिनट तक चूसता रहा। फिर मैंने उसकी पैंटी को निकाल दिया। उसके बुर पर एक भी बाल नहीं था।

मैं उसकी जली हुई चुत को चोदने लगा .. मुझे बहुत मजा आ रहा था।

जल्दी ही उसके बुर से पानी निकलने लगा .. मैंने पानी पी लिया। उसका स्वाद नमकीन था।

अब प्रिया तड़पने लगी और कहने लगी- अब बस नहीं है

.. अब डालो और फाड़ डालो मेरी बुर… इसे भोसड़ा बना दो।

मैं उसके बुर पर आ गया। मैंने अपना लंड उसकी बुर पर रख दिया। मैंने धक्का दिया तो मेरा लंड फिसल गया। मैंने लंड पर थूक लगाया और धक्का मार कर झाड़ी को हिलाया .. मेरा आधा लंड उसकी बुर में चला गया।

वह दर्द से चीखने लगी और उसे बाहर निकालने को कहा।

मैंने उसे समझाया कि पहले थोड़ा दर्द होगा। मेरे मनाने पर वह चुप हो गई। मैं उसके स्तन चूसने लगा।

जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने एक धक्का और मारा। इस बार मेरा पूरा लंड उसकी बुर को चीरता हुआ अंदर चला गया।

दर्द में उसकी आँखों से आँसू निकलने लगे। मैं उसके होंठ चूसने लगा। जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने धीरे-धीरे लंड को आगे-पीछे करना शुरू कर दिया।

उसे मजा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी। वो मेरी गांड उठा कर मेरा साथ देने लगी। हम पाँच मिनट तक चुदाई करते रहे। फिर वो झड़ गई और मुझे कस कर पकड़ लिया।

मैं अभी भी नहीं हुआ था। मैं जोर-जोर से लंड को चाटने लगी।

कुछ देर बाद मैं झड़ने वाला था .. तो उसने कहा- मेरे बुर को अपने अंदर ही निकाल लो।

मैंने तीन चार धक्के और लगाए और उसके बुर में माल निकाल दिया।

कुछ देर बाद हम उठे और बाथरूम में जाकर सब साफ़ किया। एक दूसरे को चूमा और कपड़े पहन लिए।

इसके बाद मैंने थोड़ी देर टीवी देखा और घर चला गया। अब जैसे ही मौका मिलता हम दोनों सेक्स करना शुरू कर देते।

मैंने उसकी गांड कैसे मारी .. ये मैं आपको अपनी अगली कहानी में बताऊँगा

Leave a Reply