चुडकी देसी लड़की और मेरे गाँव की उसकी सहेली

views

“नमस्कार दोस्तों, मैं अर्जुन सिंह उर्फ ​​बिट्टू हूँ। मेरा गाँव चंडीगढ़ के पास है

। मैं देख रहा हूँ। मैं एक पंजाबी लड़का हूँ। मेरे लिंग का आकार 6 इंच है

2 साल पहले की बात है

.. जब मैंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद चंडीगढ़ जाना शुरू किया। मैं सुबह 6 बजे घर से निकल जाता था .. मुझे रास्ते में एक बस बदलनी थी।

दूसरी बस में रोज मुझे एक लड़की मिल जाती थी .. जो पिछली सीट के साथ वाली डबल सीट पर बैठती थी।

वो लड़की क्या थी .. पूरी गोरी लड़की एक कयामत थी, उसकी गांड और बोबे बहुत मस्त और भरे हुए थे।

जब भी मैंने उसे देखा, मैं बस देखता रह गया। वो भी मुझे देखती थी, शायद मुझे पसंद करती थी .. लेकिन हमारे बीच कोई बात नहीं होती थी।

मैं शुरू से ही थोड़ा शर्मीला था, मैं लड़कियों से ज्यादा बात नहीं करता था।

एक बार .. जब मैं घर आ रहा था, मैंने उसे अपनी पड़ोस की लड़की रवनीत के साथ देखा था। मैं उनके पीछे चुपचाप बैठ गया और उनकी बातें सुनने लगा। तब मुझे पता चला कि वे दोनों सहपाठी है

ं और उसका नाम मनप्रीत है

मैंने भगवान का शुक्रिया अदा किया कि चलो एक रास्ता खोजो .. अब मुझे रवनीत से मनप्रीत तक की दूरी तय करनी होगी।

अगले दिन रवनीत की माँ मेरे घर आई, वह और उसका बेटा कहीं जा रहे थे, उन्होंने मुझसे कहा – मुझे बस स्टॉप पर छोड़ दो।
मैं उन्हें छोड़ कर घर आ गया। चूँकि बाइक उसके घर की थी .. मैंने बाइक उसके घर पर खड़ी की थी।

फिर रवनीत नहा कर बाहर आया .. मैं बस उसे देखता ही रह गया। वह एक परी की तरह लग रही थी जैसे चोट लगी हो। मैं बस उसे पकड़ना चाहता था और चोद देता था .. लेकिन मैंने कंट्रोल किया।
मैंने रवनीत को बाइक की चाबी दी, रवनीत ने पूछा- चाय पियोगे?

मैंने हां कहा .. क्योंकि मुझे उनसे मनप्रीत के बारे में बात करनी थी।

मैं टीवी देखने लगा। वो मुझे चाय बना कर लाई। उसने मुझे बहुत खुले शब्दों में रवनीत के बारे में बताया – वह भाभी एक नंबर की वेश्या है

। हर बार लंड तैयार है

रवनीत से पता चला कि मेरे गाँव के ज्यादातर लड़के उसे ले गए थे। वो पूरी रंडी थी ।।
लेकिन अब मैं मनप्रीत की जगह रवनीत के बारे में सोच रहा था, मैं समझ गया कि यह भी उसकी दोस्त की तरह है

। गाँव की भाभी के बेटों को पीटा गया और पीछे से पूरी तरह से मार दिया गया।

हम दोनों चाय पी रहे थे .. तभी एक गाना बजने लगा .. जिसमें एक युगल नृत्य था।
वो बोली- आओ और नाचो।

मेरे गाँव की देसी लड़की को चोदते है


मैंने and ना .. ’कहा लेकिन थोड़ी देर बाद मैं मान गई और उसके साथ डांस करने लगी। मुझे चक्कर आ रहा था .. सिर भारी हो रहा था और सेक्स चढ़ रहा था

तो फिर हमारे होंठ एक दूसरे के लिए आया था और वह मुझे चूमने शुरू कर दिया। मैं तो जैसे जन्नत में था… मजा आ रहा था। उसने अपना एक हाथ मेरी पैंट के अंदर डाल दिया और उसे जोर जोर से रगड़ने लगा। मैं भी बहुत उत्साहित था। मैंने उसे वहीं सोफे पर गिरा दिया और उसकी गर्दन से होते हुए उसके बोब्स तक पहुँच गया।

अब मैंने उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसके बोबों को चूसना शुरू कर दिया। फिर उसने पीछे से जिप खोली और अपनी क़मीज़ हटा कर उसके स्तनों पर टूट पड़ा।

मेरी उत्तेजना इतनी अधिक थी कि मैंने उसकी काली ब्रा को निकाल कर फेंक दिया।

उसके बोबे बहुत ही मस्त और बड़े थे .. वो मेरे सोचने से बड़े थे। मैं धीरे-धीरे नीचे आ रहा था। वो सिस्कारिया भी ले रही थी .. मैं अपना लंड हिला रहा था। फिर उसने मुझे घूमने के लिए कहा और मेरी सलवार उतार दी और मेरे कपड़े भी उतार दिए। अब मैं उसकी चूत चूस रहा था और वो मेरा लंड।

कुछ समय बाद, मेरा शरीर अकड़ने लगा, मुझे लगा कि यह अपमानजनक हो गया है

.. लेकिन यह भी अव्यवस्थित होने लगी और गिर गई। मैंने उसकी चूत को अपने मुँह पर भी महसूस किया .. जो मुझे नमकीन लगा .. लेकिन अच्छा लगा। फिर मैंने अपना मुँह एक तरफ कर दिया।

अब मैं भी झड़ने लगा और तुरंत उसने पूरा लंड मेरे मुँह में भर दिया और मेरा सारा माल पी गई।

कुछ देर बाद मैंने उसकी बूब को फिर से चूसना शुरू कर दिया और मैं फिर से खड़ा हो गया।
उसने कहा- बस अब डाल दो .. अब और नहीं रुकता .. चूत को छह महीने से सूखा है

मैंने भी मौका समझ कर उसकी चूत के नीचे एक तकिया रख दिया और उसके उभरे हुए लंड को चूत में पेल दिया। पहली बार में ही पूरा लंड अंदर तक घुस गया था।
वो चीख पड़ी .. वो दर्द से चिल्ला उठी- उम्म्ह… अहह… हह… याह… धीरे से करो… .।

Leave a Reply